किसी के लिए कितना भी करो शायरी

किसी के लिए कितना भी करो शायरी

किसी के लिए कितना भी करो शायरी  हिंदी में – इस तरह के रोमांचित पोस्ट किए गए, आज इस पोस्ट किए गए से, भेणे कुछ मजेदार किसी के लिए कितना भी करो कोट्स हिंदी में, असा हैं मेरे हमारे प्यार में पोस्ट किया गया निष्कर्ष

हमने इस पोस्ट को लिखा है, जो आप करेंगे, आप भी करेंगे, कितना भी करेंगे, और हम करेंगे बेस्ट ऑफ द बेस्ट किसी के लिए कितना भी करो कोट्स इन हिंदी को सेलेक्ट किया गया है, आप इस तरह से करेंगे परनेमे इस कितना भी करो किसी के लिए हिंदी में उद्धरण पोस्ट किए गए को.

 

100+ किसी के लिए कितना भी करो शायरी

 

किसी के लिए कितना भी कर लो अंत में वो यही कहकर छोड़ देगा की आखिर तुमने मेरे लिए किया ही क्या है।
मुझे उन लोगों से कोई दिक़्क़त नही जो मुझे पसंद नही करते मुझे तो दिक़्क़त उन लोगों से है जो मुझे पसंद करने का दावा करते है
किसी के लिए कितना भी कर लो अंत में वो यही कहकर छोड़ देगा की आखिर तुमने मेरे लिए किया ही क्या है।
एक बड़े नाम के पीछे जो छिपा हुआ गुमनाम चेहरा है
बहुत खास है वो शक्स मेरे लिए,फिर भी वो मेरा दिल दुखाता है,सब के लिए वक्त है उसके पास,बस मुझसे ही दूरियां बनाता है।
हर शख्स परिन्दोँ का हमदर्द नही होता दोस्तोँबहुत बेदर्द बैठे हैँ दुनिया मे जाल बिछाने वाले।
गले लगाना तो बस एक कला है बाकि पीठ पीछे तो हर कोई तुझसे जला है।
कुछ कहने की ज़रुरत नहीं मैं जानता हूँ तुम किसी काम से ही आए होंगे।
अगर किसी दिन रोना आये,तो आ जाना मेरे पास,हंसने का वादा तो नहीं करता,मगर रोऊंगा जरुर तेरे साथ!
तेरे बाद ना अब मेरे पास तेरा शोर होगा ना कोई और होगा।

 

किसी के लिए कितना भी करो शायरी

क्या नाम दूँ मैं अपनी मोहब्बत को..कि ये तेरा सिवा किसी और से होती ही नहीं..!!
मामले आएं है कई दिल दहला देने वाले, कई पराए मिले अपनों के भेष में खुद को अपने कहला देने वाले।
किसी के लिए प्यार में कुछ भी कर लो लकिन वो प्यार किसी और से हे करेगी।
नहीं है तमन्ना मेरी तुमको पाने की,
लेकिन डरता हु फिर भी तुझे खोने की,
किसी के लिए इतनी भी नही किया तुझे देख नेके पहले,
करता हु खुदसे भी जादा प्यार ये तमन्ना है मेरी.
आज के दौर में किसी से उम्मीद मत रखो।
अजीब दास्ताँ है हमारी ज़िन्दगी की जिन्हे भी हम अपना होने का मौका देते हैं हमे वही धोका दे कर चौंका देते हैं।
इतना न कर शरारत की अंदाज़ ही बदल जाये,
इतना न कर शरारत की अंदाज़ ही बदल जाये,
और इतनी भी न  कर #मोहब्बत की चेहरे से पता चल जाये
किसी के लिए कुछ करो वो आप को कभी नहीं समझगी
हस्ती मिट जाती है आशियां बनाने में,
बहुत मुश्किल होती है अपनों को समझाने में,
एक पल में किसी को भुला ना देना,
जिंदगी लग जाती है किसी को अपना बनाने में
खुशिया कम है गम काफी है फिर भी ज़िंदा है क्यूंकि दम काफी है।
किसी को खुदा मानो तो वो राक्षसों से भी बदतर व्यवहार करता है जिसकी सलामती की दुआ करो वहीं साला पीठ पीछे वार करता है।
 हो सकता है में नसमझ,
पर असमान का तारा हु में,
समझना मत मुझे में इतना आसान,
की तेरी हर #ख्वाहिश के लिए टूट जायु में

किसी के लिए कितना भी करो शायरी

अजीब दास्ताँ है हमारी ज़िन्दगी की जिन्हे भी हम अपना होने का मौका देते हैं हमे वही धोका दे कर चौंका देते हैं।Co
मुझे उन लोगों से कोई दिक़्क़त नही जो मुझे पसंद नही करते मुझे तो दिक़्क़त उन लोगों से है जो मुझे पसंद करने का दावा करते है
दर्द कितना खुशनसीब है जिसे पा कर लोग अपनों को याद करते हैं ,दौलत कितनी बदनसीब है जिसे पा कर लोग अक्सर अपनों को भूल जाते है
बारिश की बूंदो का धरती से हुआ मिलन तो महकने लगी,घमंडी आसमान की जलन तो देखो बिजली कड़कने लगी।
दिल लाखों दर्द में बैठे हैं फिर भी ना जाने क्यों अभी भी लाखों की तादाद इस दर्द को पाने को खड़ी है।
एक शिकायत है खुदा तुझसे और शिककायत ये नहीं की तूने लोग क्यों बनाए शिकायत ये हैं
की इतने मतलब क्यों बनाए।
इश्क कोई क्यों करता है,इसे जान लेना जरूरी है,इसके बिना कैसे जिए कोईबिन इसके ज़िन्दगी अधूरी है.
तड़प के देखो किसी की चाहत में,तो पता चले कि इंतजार क्या होता है,
यूं ही मिल जाए अगर कोई बिना तड़पे, तो कैसे पता चले कि… प्यार क्या होता है
कुछ लोग बहुत ही मतलबी हो गए है
जुदा न हो एसा कोई प्यार चाहिए,
खफा न हो एसा कोई लड़की चाहिए,
दूर न जाओ एसा कोई साथी चाहिए,
प्यार  के लिया कितनी भी करलू  वो छोर के नही जाना चाहिए
हर घड़ी इस जिंदगी को आज़माया है हमने,इस जिंदगी में सिर्फ गम पाया है हमने,जिस ने हमारी कभी कदर ही न जानी,उस वेबफा को इस दिल में बसाया है हमने।
कोई हमारी बराबरी क्या करेगा हम तो कूलर में भी पानी की जगह बीयर डालते है।
माना वक़्त ने वक़्त पर धोखा दिया फिर भी वक़्त ने वक़्त पर मौका दिया अब वक़्त हैं
वक़्त बदलने का वक़्त के साथ वक़्त पर चलने का !
मै उस पंछी सा हूँ जो सागर के बीच मे उड़ तो रहा हूँ पर ना कोई किनारा है ना कोई सहारा है
कुछ लोगों को हम कितना भी,अपना बनाने की कोशिश
क्यों ना करले आखिर में वो,साबित कर देते हैं,कि वो गैर ही हैं
सच्चे प्यार की कदर नहीं दुनिया को दुनिया तो बस तेरा इस्तेमाल जानती है।
यहाँ लोगो ने खुद पर इतने परदे दाल रखे है
किसी के दिल में क्या है नज़र आना बी मुश्किल है
मन के ख्वाब में मुलाक़ात होगी उनसे
पर यहाँ तो उसके बिना नींद आना बी मुश्किल है

किसी के लिए कितना भी करो शायरी

करता हु तुझसे #प्यार, करता हु तुझसे #प्यार,
लेकिन क्यों तू इतना सताता है, करता हु तेरे लिए इतना कुछ
मगर पता चला की किसी के लिए कितनी भी करो वो भाऊ नही देते है.
यहाँ लोग बात करने के लिए नहीं रोकते, सब इसलिए रोकते हैं ताकि वो आपकी औकाद जान सकें।
ये वक्त बदला और बदली ये कहानी है,अब तो बस मेरे पास उनकी यादें पुरानी है,न लगाओ मेरे ज़ख्मो पे मरहम,क्योंकि मेरे पास बस उनकी यही बची हुई निशानी है।
सच्चे प्यार की कदर नहीं दुनिया को दुनिया तो बस तेरा इस्तेमाल जानती है।
किसी और का हो गया अब तुम्हारा प्यार, बड़ी देर बाद मालूम हुई तुम्हे मेरे प्यार की अहमियत
ख़ुश रहना है तो ज़िंदगी के फ़ैसले अपनी परिस्थिति को देखकर ले दुनिया को देखकर जो फ़ैसले लेते है वो दुखी रहते है
कसूर किसी का भी हो मगर,आसूँ हमेशा बेक़सूर के ही निकलते हैं.
किसी के लिए कुछ भी करो लकिन प्यार करंगे किसी गैर से।
यहाँ लोगो ने खुद पर इतने परदे दाल रखे हैकिसी के दिल में क्या है नज़र आना बी मुश्किल हैमन के ख्वाब में मुलाक़ात होगी उनसेपर यहाँ तो उसके बिना नींद आना बी मुश्किल है
हमे तो पहले से पता था की तुम बेवफा हो पर हम फिर भी तुम्हे प्यार कर रहे थे, तुम बदल जाओगे सच्ची मोहोब्बत देखकर बस इसी खातिर हम इंतज़ार कर रहे थे।
खिलती हुई मुस्कान के पीछे जो छिपा हुआ दर्द है ना बस ज़िन्दगी का सच वहीं तक है।
हम न समझे तेरी नजरो का तकाज़ा क्या है
कभी पर्दा कभी जलवा ये तमाशा क्या है
फरेब, धोखे से मुहब्बत में बदनाम हुए इज्जत, इबादत से इश्क में आबाद हुए
कीमत उसे पाने वालो को पता होती है मगर अहमियत सिर्फ उसे खोने वाले को|
बोहोत खुश नसीब है वह लोग जिनका प्यार उनकी क़दर करता है और इज़्ज़त भी

किसी के लिए कितना भी करो शायरी

Leave a Comment